जब टीम मीटिंग छोड़ मछली पकड़ने चले गए एंड्रयू साइमंड्स, सीरिज से हो गए थे बाहर

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी एंड्रयू साइमंड्स का 46 साल की उम्र में एक कार एक्सीडेंट के चलते निधन (Andrew Symond) हो गया। एंड्रयू साइमंड्स के निधन (Andrew Symond Death) की खबर से क्रिकेट जगत के साथ-साथ उनके फैंस को भी गहरा सदमा लगा है। किसी के लिए भी इस बात पर यकीन करना मुश्किल हो रहा है कि अब एंड्रयू साइमंड्स (Andrew Symond Throwback Story) हमारे बीच नहीं रहे हैं। एंड्रयू साइमंड्स को याद कर आज सभी उन्हें सोशल मीडिया के जरिए श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं। इस दौरान कई लोगों ने उनके पुराने किस्सों (Andrew Symond Life Story) को भी याद किया है।

Andrew Symond

जिंदादिल शख्स थे एंड्रयू साइमंड्स

एंड्रयू साइमंड्स एक बेहद जिंदादिल और रोमांचक इंसान थे। एंड्रयू को लेकर यह कहा जाता था कि वह अपने मन की ही करते थे और यही वजह था कि अपने इस मनमौजी रवैया के चलते उन्हें काफी कुछ झेलना भी पढ़ा था। इतना ही नहीं क्रिकेट जगत के आला अधिकारियों के साथ भी एंड्रयू साइमंड्स की उनके रवैये के चलते कुछ खास बनती नहीं थी।

Andrew Symond

एंड्रयू साइमंड्स के निधन की खबर सुनने के बाद ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान एलन बॉर्डर ने रविवार को साइमंड्स को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा- गेंद को दूर तक मारते थे और वह सिर्फ मनोरंजन करना ही पसंद करते थे. उनके बारे में नेटवर्क नाइन से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया- एंड्रयू साइमंड्स एक पारंपरिक क्रिकेटर थे। वह साहसी थे और उन्हें मछली पकड़ना, कैंपिंग, हाइकिंग करना बेहद पसंद था। उनका यही स्टाइल लोगों को खासा लुभाता था।

Andrew Symond

जब साइमंड्स को फिशिंग के कारण होना पड़ा टीम से बाहर

एक बार तो अपने इसी स्टाइल के चलते उन्हें एकदिवसीय श्रृंखला से बाहर का रास्ता भी देखना पड़ा था। दरअसल यह किस्सा साल 2008 का है, जब बांग्लादेश के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया की एकदिवसीय श्रृंखला से उन्हें बाहर कर दिया गया था और ऐसा इसलिए, क्योंकि जब टीम की बैठक चल रही थी तो वह बैठक में हिस्सा लेने की बजाय मछली पकड़ने चले गए थे। इसके अलावा उन्हें साल 2009 में टी-20 विश्व कप से पूर्व टीम के मदिरा से जुड़े नियमों का उल्लंघन करने के लिए भी अनुशासनात्मक कार्रवाई झेलनी पड़ी थी।