कल निर्भया के गुनहगारों को फांसी होना तय, फांसी से पहले किया जाएगा ये काम

आखिर वह दिन आ गया जिस दिन निर्भया के गुनहगारों को फांसी दिया जाएगा. निर्भया के गुनाहगारों को 20 मार्च को फांसी होना तय हो चुका है. बहुत बार फांसी के टाले जाने के बाद कल उनकी फांसी निश्चित कर दी गई है।

पटियाला हाउस कोर्ट ने डेट वारंट केरोक की अर्जी को खारिज कर दिया है। इस तरह से उनकी कल फांसी बिल्कुल तय है। आइए जानते हैं फांसी के पहले उनको क्या क्या खिलाया जाएगा और कैसे रखा जाएगा।

Image Source Google

जेल के नियमों के अनुसार फांसी के पहले आरोपियों को जेल प्रशासन की ओर से चाय दी जाएगी। बता दें कि निर्भया के चार आरोपी राम सिंह, विनय शर्मा, पवन गुप्ता और मुकेश को 20 मार्च को सुबह 5:30 बजे फांसी होनी है।

इन सभी को फांसी देने के लिए पवन जल्लाद को बुलाया गया है। इससे पहले पवन जल्लाद पांच और लोगों को भी फांसी दे चुका है।

चाय और बिस्किट देने के बाद गुनहगार को नहाने के लिए लाया जाता है। उन्हें काले रंग के कपड़े पहने जाते हैं फांसी देने के समय उनका चेहरा एक काला पोशाक से ढक दिया जाता है। पैरों में रस्सी बांधी जाती है और हाथों में हथकड़ी होती है।

Image Source Google

फांसी देने की रस्सी बिहार के बक्सर जेल से लाई जाती है। अफजल गुरु के लिए भी फांसी की रस्सी यही तैयार की गई थी।

जेल सुपरिटेंडेंट के इशारे पर जल्लाद लीवर को खींचता है और गुनहगार का शरीर रस्सी से लटक जाता है। उसे 2 घंटे तक वैसे  ही लटका रहा दिया जाता है।

डॉक्टर के चेक करने के बाद ही गुनाहगार के शरीर को वहां से उतारा जाता है। इस दौरान वहां जो ही बातें होती है वह इशारों में होती है। ताकि गुनहगार का ध्यान भटके नहीं।

आखिर एक लंबे संघर्ष के बाद निर्भया के दोषियों को कल फांसी दी जाएगी. उनकी मां बहुत दिनों से इस पल का इंतजार कर रही थी। कल सारा देश देखेगा की गुनाह से बचने के लिए चाहे कोई कुछ भी बार ले  परंतु भारत का कानून उसे नहीं बकसने वाला नहीं।