हंदवाड़ा मुठभेड़ मे शहीद हुए कर्नल आशुतोष बोले थे मेरी यूनिट ही मेरा घर

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हनवाड़ा में शनिवार को आतंकियों के मौजूद होने की सूचना भारतीय जवान को मिली थी.सूचना ऐसा था कि आतंकी एक घर के लोगों को बंधक बना वहां छुपे हुए थे। इस सूचना के मिलते ही भारतीय जवान आनन-फानन में उस इलाके की घेराबंदी कर उन दोनों आतंकवादियों को मौत के घाट उतार दिया लेकिन इन सारे एनकाउंटर के दौरान 2 सेना के अधिकारी, सेना के 2 जवान के साथ एक जम्मू-कश्मीर पुलिस के इंस्पेक्टर भी शहीद हो गए।इन शहीद में से एक कर्नल आशुतोष शर्मा भी थे जिन्हें 2019 में सेना मॉडल से भी नवाजा जा चुका है।

आतंकवादियो ने बना लिया था बंधक

Image source google

सेना को मिली जानकारी के आधार पर आतंकवादी कुपवाड़ा जिले के हनवाड़ा में एक घर में वहां के लोगों को बंधक बना कर छिपे बैठे थे। आनन फानन मे सेना द्वारा किए गए इस कार्रवाई के दौरान सफलतापूर्वक इन लोगों को छुड़ा लिया गया।इस संयुक्त कार्रवाई में सेना के पांच और जम्मू कश्मीर के 1 जवान शामिल थे।जिसने 5 जवान शहीद हो गए।शहीद होने वाले सैनिकों में कर्नल आशुतोष शर्मा मेजर अनुज सूद,पुलिस सब इंस्पेक्टर शकील काजी क्लांस लांस नायक और एक राइफलमैन सहित कुल 5 जवान थे।

3 अप्रैल को को सेना को मिली थी बड़ी सफलता

Image source google

बता दें कि 3 अप्रैल को भी हंदवारा के अलग-अलग ऑपरेशन में से चार आतंकी और पांच उसके समर्थक को गिरफ्तार किया गया था और इनकी इनसे काफी मात्रा में हथियार और गोला बारूद मिला था। यह आतंकी पूछताछ में बहुत बड़ा खुलासा हुआ था यह आतंकी पाकिस्तान में बैठे आकाओं के इशारे पर यहां के युवाओं को फुसलाकर उनको आतंकवादी बनाने में लगे हुए थे।यह सारे लोग पाकिस्तान से हथियार मंगाकर इन युवाओं को ट्रेनिंग देते थे और देश के विरुद्ध भड़काया करते थे।

हौसला बढ़ाते हुए कहा था कि यह यूनिट ही मेरा घर

Image source google

3 अप्रैल के इस सफलता पर कर्नल आशुतोष शर्मा ने अपने यूनिट के जवानों को हौसला बढ़ाते हुए कहा था कि यह यूनिट ही मेरा घर है और यूनिट के सारे जवान ही हमारे परिवार के सदस्य हैं।बता दें कि कर्नल आशुतोष शर्मा को उनके वीरता के लिए 2019 में इनको सेना मॉडल से भी सम्मानित किया जा चुका है।