इस पुलिस वाले के हौसले को सलाम,800 km बाइक चला पहुचाई कैंसर मरीज को दवा

देश में कोरोना वायरस के चलते फिर से लॉक डाउन को 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है और इस सेकंड फेज के लॉक डाउन को और भी कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। इस लॉक डाउन में सफल बनाने वाले अपने देश के कोरोना वारियर्स हमेशा देश के नागरिकों के लिए अपने जान से ज्यादा करते नजर आते रहते हैं ।

देश के कोरोना वारियर्स

एक ऐसा ही उदाहरण अभी एक पुलिस वाले का आया है जिन्होंने अपनी ड्यूटी के दौरान एक कैंसर पीड़ित व्यक्ति को 800 किलोमीटर बाइक चलाकर दवा पहुंचाई।बेंगलुरु पुलिस में हेड कांस्टेबल के रूप मेंकार्यरत 47 वर्षीय एस कुमारस्वामी ने एक मरीज जो कैंसर से पीड़ित था उनको दवा पहुंचाने के लिए अपने बाइक होंडा एक्टिवा से 800 किलोमीटर का सफर किया ।

ऐसे की मदद

बता दे की कैंसर से पीड़ित मरीज उमेश ने कर्नाटक के एक समाचार चैनल को फोन कर उनसे मदद मांगी थी।हेड कांस्टेबल एस कुमारस्वामी ने इस चैनल पर उस पीड़ित की मदद की बात सुनी।वह उस न्यूज़ चैनल के ऑफिस गए और वहां से मरीज का डिटेल जानकारी लेकर उस मरीज को फोन कर दवाई के बारे में जानकारी प्राप्त की।

इसके बाद हेड कांस्टेबल इस कुमार स्वामी ने अपने सीनियर ऑफिसर से बाहर जाने की अनुमति लेकर कर्नाटक के धारवाड़ जहां यह मरीज का घर था सुबह 4:00 बजे रवाना हो गए।यह शहर बेंगलुरु से करीब 430 किलोमीटर की दूरी पर है।कुमार स्वामी मरीज उमेश के घर दोपहर को 2:00 बजे के आसपास पहुंचे।

पुलिस वाले के बावजूद चेक पोस्टों

उन्होंने बताया कि कई जगह पर पुलिस चेक पोस्टों पर उन्हें एक पुलिस वाले होने के बावजूद भी रोका गया और मेरे इस सफर के कारण बताने पर ही मुझे आगे जाने दिया गया। दवा पहुंचाने के बाद वह 4:00 बजे अपने घर के लिए निकल गए और रात के 10:30 बजे चित्रदुर्गा पहुंचे तथा वहां पर स्टेशन ऑफिस में अपनी रात काटी और सुबह 5:00 बजे अपने घर को निकल गए और 10:00 बजे तक अपने घर को पहुंच गए।

हेड कांस्टेबल कुमार स्वामी के इस जज्बे को देखकर बेंगलुरु शहर की पुलिस की काफी तारीफ कर रही है।बता रही है कि अपनी पूरी जिंदगी में इस तरह के पुलिस वाले के जज्बे को नहीं देखा है।भारत में कोरोना संकट के आ जाने के बाद हर हर दिन कोई न कोई ऐसा कोरोना वारियर्स के द्वारा काम किया जाता है जो कि देश के लिए गर्व की बात होती है और देशवाशी इन पर फक्र कर सकें।