देश के एक योद्धा ने दूसरे योद्धा का ऐसे किया सम्मान, देशवासियो के लिए गर्व का पल!

कोरोना के खिलाफ देश के इस जंग में सबसे फ्रंट लाइन पर खड़े रहे डॉक्टर, नर्स, मेडिकल स्टाफ समेत अन्य सभी कोरोना योद्धाओं को आज देश के सेना ने सलाम दिया है।सेना के तीनों अंगों के जवानों ने डॉक्टरों, नर्सों ,मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मियों और अन्य कोरोना योद्धाओं को जो इस मुसीबत में फ्रंट लाइन पर खड़े होकर इस देश के लिए लड़ रहे हैं उन सभी को सम्मान देते हुए आज उन सब पर पुष्प वर्षा किया है।सेना ने इन हॉस्पिटल के बाहर खड़ा होकर इन योद्धाओं के लिए बैंड भी बजाया है।

जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को की थी घोषणा

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को यह घोषणा की थी कि सेना के तीनों अंगों के द्वारा कोरोना योद्धाओं को सम्मान दिया जाएगा। इस कार्यक्रम का शुरुआत सबसे पहले दिल्ली के पुलिस मेमोरियल में श्रद्धांजलि के साथ की गई।इसके बाद देश के वायु सेना ने देश भर में फ्लाइट मार्च करते हुए इन योद्धाओं को अपना सलामी दिया। देश के योद्धाओं को सलामी देने के लिए राजपथ पर भी पुष्प वर्षा की गई।

वायु सेना ने ऐसे दिया सलामी

Image source google

सेना के हेलीकॉप्टर द्वारा दिल्ली के पुलिस वार मेमोरियल सहित दिल्ली के सभी अस्पताल पर फूल बरसाए गए। इतना ही नहीं सेना के इन हेलीकॉप्टरों के द्वारा चेन्नई के अलावा देश के कई विभिन्न शहरों के हॉस्पिटल के ऊपर फूल बरसाए गए जिसमें दिल्ली, मुंबई, जयपुर, गुवाहाटी, अहमदाबाद, पटना तथा लखनऊ के अस्पताल शामिल ।इसके अलावे इंडियन एयरफोर्स के विमान सुखोई 29 और जगुआर फाइटर प्लेन के द्वारा इन कोरोना योद्धाओं को सेल्यूट दिया गया।

नौ सेना आज शाम मे दह सलामी

Image source google

इस सब के बाद अब नौसेना के द्वारा आज शाम 7:30 बजे से रात 11:59 तक मुंबई की गेटवे ऑफ इंडिया के नजदीक नौसेना के पांच जहाजों पर पर रोशनी किया जाएगा।नौसेना पश्चिमी कमान के इन जहाजों पर इंडिया सेल्यूट कोरोना वारिर्यस लिखें बैनर दिखाए जाएंगे।इस तरह का नजारा विशाखापट्टनम, पोरबंदर, चेन्नई, कोच्चि और पोर्ट ब्लेयर में तैनात जहाज पर दिखाया जाएगा।

कोस्ट गार्ड भी करेगे सलाम

Image source google

पोरबंदर, रत्नागिरी और गोवा पोर्ट ब्लेयर जैसी 24 अलग-अलग जगहों पर कोस्ट गार्ड के जहाज भी रोशनी कर कोरोना वारिर्यस को अपना सलामी देंगे।देश के सेना द्वारा इस तरह इस तरह कोरोना वारिर्यस को सलामी देने पर ऐसा लग रहा है कि देश के एक योद्धा दूसरे योद्धा को सम्मान कर रहे हैं। और इस तरह के सम्मान में से देशवाशियों का सर गर्व से ऊंचा हो रहा है।