600 कर्मचारियों की एक झटके में गई नौकरी, ‘छटनी’ को हर साल की प्रकिया कह कंपनी ने झाड़ा पलड़ा

इन दिनों कई बड़ी कंपनियों में काम कर रहे कामगरो पर बेरोजगारी (Unemployment) की मार पड़ रही है। इस कड़ी में अब सेकंड हैंड कार बेचने वाली ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म कंपनी कार्स 24 (Cars 42 Job Crisis) ने भी अपने 600 कर्मचारियों को इस्तीफा देने के लिए कह दिया है। गौरतलब है कि कंपनी ने इंटरनेशनल स्तर पर अपने विस्तार को लेकर चल रही योजना के मद्देनजर अचानक से यह फैसला ले सभी को चौंका दिया है। ऐसे में कंपनी के 600 कर्मचारी जल्द ही बेरोजगार (Employee Layoff) हो जाएंगे। बता दे कार्स 24 में करीबन 9000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं और उसे Softbank और Alpha Wave Innovation जैसे दिग्गज निवेशकों का समर्थन भी है। ऐसे में इस छटनी (Job Crisis In India) का स्तर बड़े लेवल पर देखने को मिलने वाला है।

cars24 ने 600 कर्मचारियो को निकाला

ई-कॉमर्स कंपनी cars24 की ओर से इस प्रक्रिया को छटनी का नाम देने से इंकार कर दिया गया है। कंपनी के प्रवक्ता का कहना है कि यह एक सामान्य प्रक्रिया है और प्रदर्शन से जुड़ी हुई है। इस प्रक्रिया को हर साल फॉलो किया जाता है और यह हर साल की तरह ही एक प्रक्रिया का हिस्सा है। मीडिया रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि निकाले जाने वाले सभी कर्मचारी भारत के हैं और सभी जूनियर पोस्ट पर कार्यरत है।

Job Crisis

बात cars24 की वैल्यू की करें तो बता दे साल 2015 में इस कंपनी को स्थापित किया गया था। इस कंपनी को तकनीक का इस्तेमाल करते हुए ग्राहकों को कार खरीदने, बेचने और फाइनेंस कराने में मदद के लिए शुरू किया गया था। cars24 ने दिसंबर में इक्विटी के जरिए 30 करोड़ डॉलर और अत‍िर‍िक्‍त 10 करोड़ डॉलर का फंड भी एकत्रित किया था। उस समय कंपनी की वैल्यू 3.3 अरब डॉलर बताई गई थी। इस फंड से कंपनी ने दूसरे बाकी देशों में अपने पैर फैलाए थे।

Job Crisis

वहीं इस मामले पर cars24 के संस्थापक विक्रम चोपड़ा का कहना है कि कंपनी के भविष्य में कई बड़े प्लान है। इससे ग्राहकों को नए तरह का अनुभव ही मिलेगा। साथ ही दूसरी ओर शिक्षा प्रौद्योगिकी कंपनी वेदांत ने मंदी की आशंका जताते हुए 424 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। बता दे वेदांतू ने पिछले 15 दिनों में 200 कर्मचारियों की छटनी की है।