पुलिस ने युवती को रोका- बोली 20 मिनट में बॉयफ्रेंड को मजा चखा कर आती हूँ !

कोरोना वायरस का संक्रमण अभी पूरे देश में काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है।परंतु देश में काफी दिनों से लॉक डाउन होने की वजह से लोग डाउन-4 में धीरे-धीरे छूट देनी शुरू हो गई है।इस दौरान लोग अपने निजी वाहन से जरूरी काम के लिए आ जा रहे हैं।पुलिस इस दौरान पूछताछ भी करती नजर आ रहे हैं। इसी दौरान एक पूछताछ मे एक अनोखा मामला सामने आया है।जब एक पुलिस वाले ने एक युवती को रोक कर पूछा कि कहां जा रही हो?तो उस युवती ने अजीबोगरीब बात बोली,कहा कि सर मुझे जाने दो,मैं 20 मिनट में आ जाऊंगी,मैं अपने बॉयफ्रेंड को मजा चख खाने जा रही हूं।

बॉयफ्रेंड को मजा चखा कर आती हूँ

Image Source google

यह पूरा मामला गुजरात के अमहाबाद शहर का है।एक युवती लॉक डाउन में अपनी स्कूटी पर तेजी से जा रही थी।    पुलिसकर्मियों ने उसे रोक उनसे बाहर जाने का कारण पूछा!इस युवती ने बोली कि सर मुझे जाने दो प्लीज। मैं अपने बॉयफ्रेंड को मजा चखाने जा रही हूं।इस लॉक डाउन मैं बॉयफ्रेंड से नहीं मिली और अब मुझे पता चला है कि उसका अफेयर किसी और के साथ हो गया है।मैं अभी काफी गुस्से में हूं।मुझे बस 20 मिनट का टाइम दो।मैं उसे मजा चखा कर आती हूं। यह सुनकर पुलिसकर्मी ने कहा कि जल्दी से घर वापस चली जाओ नहीं तो मैं स्कूटी जप्त कर लूंगा।

टू व्हीलर पर एक आदमी जाने की छूट

Image Source google

अभी अमदाबाद में कोरोना के काफी मामले मिल रहे हैं।इस कारण यहां अभी सख्ती बरती जा रही है।परंतु जरूरतमंद लोगों को जाने की छूट भी दी जा रही है।शहर में टू व्हीलर पर एक आदमी जाने की छूट है। वही एक और मामला सामने आया है।

एक और अनोखा मामला

Image Source google

एक व्यक्ति अपनी बीवी को पीछे बिठाकर लॉक डाउन में निकल गया।पुलिस ने उसे रोका तो बोला कि सर मुझे जाने दीजिए।मेरी पत्नी को अपनी मम्मी की बहुत याद आ रही है।उसकी मम्मी बहुत बीमार है।आप नहीं जाने दोगे तो पता नहीं क्या मुसीबत हो जाएगी।यह सुनकर पुलिस वाले ने उसे जाने दिया।

बस सेवाए हुई शुरू

राज्य के बस टर्मिनल से भी बस सेवाएं शुरू कर दी गई है।यात्रियों को स्क्रीनिंग करने के बाद उसे बस पर सवार होने की मंजूरी दी जा रही है।एक अधिकारी द्वारा बताया गया कि बुधवार से बस सेवाएं शुरू कर दी गई है।अभी सवारियों की संख्या काफी कम है।सवारियों को सवार होने से पहले उसकी टेंपरेचर को मापा जाता है।टेंपरेचर समान होने पर ही बसों में सवार होने की मंजूरी दी जाती है।वही चालक एवं परिचालकों की मेडिकल परीक्षण भी किया जाता है। और पूरे बस को सैनिटाइज किया जाता है।