अर्णव गोस्वामी पुलिस वैन से बोले – मेरी जान खतरे मे, आज सुबह मुझे पीटा गया

अर्नब गोस्वामी की 2018 की एक मामले में कुछ दिन पहले गिरफ्तारी हुई थी। यह मामला एक इंटीरियर डिज़ाइनर के आत्महत्या के उकसाने को लेकर है। इन्हें बुधवार को गिरफ्तार किया गया था। अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार कर अलीबाग पुलिस स्टेशन लाया गया। इसके बाद बाकी दो आरोपियों  फिरोज शेख और नितेश शारदा की भी गिरफ्तारी हुई। इन सभी को मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। शनिवार को सभी को 18 नवंबर तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया था।

अर्नब गोस्वामी और उनके दो अन्य आरोपियों ने मुंबई उच्च न्यायालय में अपनी गिरफ्तारी को अवैध कहते हुए अंतरिम जमानत देने की अपील की थी। जिस पर शनिवार को सुनवाई हुई और फैसला को 9 नवंबर तक के लिए सुरक्षित रखा गया।

आज पर जब अरनव गोस्वामी को मुंबई के अलीबाग से तलोजा जेल ले जाया जा रहा था तो अर्नब गोस्वामी ने पुलिस वैन से कहा कि ”मेरी जान खतरे में है मुझे अपने वकीलों से भी बात नहीं करने दिया जा रहा है, इसके अलावा सुबह मुंबई ने मुझे पीटा”।

मेरी जान को खतरा है

बता देंगे रिपब्लिक भारत की तरफ से अर्नब गोस्वामी का एक वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें वह पुलिस वैन में नजर आ रहे हैं, अर्नब गोस्वामी पुलिस वैन के अंदर से ही रिपब्लिक भारत के पत्रकारों से कह रहे हैं कि मेरी जिंदगी खतरे में है, मुझे अपने वकीलों से भी बात करने नहीं दिया जा रहा है। इसके अलावा सुबह मुझे पुलिस वालों ने धक्का दिया और मुझे पीटा भी। उन्होंने मुझे आज सवेरे 6:00 बजे उठाया और कहा कि आपको अपने वकीलों से मिलने नहीं दिया जाएगा। प्लीज ये सारी बात देशवासियों को बताए। बताइए कि मेरी जान खतरे में है।

रिपब्लिक भारत की तरफ से एक और वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें अर्नब गोस्वामी यह साफ कहते हुए नजर आ रहे हैं कि आज मुझे सुबह पीटा गया। सुप्रीम कोर्ट को यह बात बताई जाए। मैं चाहता हूं कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले में दखल दे, सुप्रीम कोर्ट मेरी मदद करें।

इसके अलावा अर्नब गोस्वामी के अपने ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो शेयर किया गया है। इसमे वो बोल रहे कि “उन्होंने मुझसे बोला कि आपके पास कोई भी लीगल राइट नहीं है, वह मुझे वकील से भी बात करने नहीं देंगे, मुझे लग रहा है कि मेरी जान को खतरा है, सुप्रीम कोर्ट कृपया आप मेरी मदद करें।