शहीद अमरजीत की माँ बोली एक लाल शहीद हुआ क्या दूसरे बेटे को भी फौज मे भेजूगी

शनिवार की रात 2:30 बजे नक्सलियों का सुकमा मे जवानों पर किए हमले में 17 जवान शहीद हो गए थे। उनमें से एक अमरजीत जी भी थे। रविवार को जब स्थानीय थाने के जवान यह खबर लेकर उनकी मां के पास गए तो उनकी मां बुरी तरह से रोने लगी।

थाना प्रभारी ने उनको दिलासा देते हुआ कहा कि आपके बेटे ने देश की सेवा में करते हुए अपनी जान दी है। आपका बेटा देश के लिए शहीद हुआ है।

इस पर अमरजीत के मां बोली कि मेरा कलेजा बहुत मजबूत है- एक बेटे के कुर्बान हो जाने के बाद भी मैं टूटने वाली नहीं हूं मैं अपने दूसरे बेटे को भी देश की सेवा के लिए फौज में भेजूंगी।

शहीद की मां की यह बात सुनकर वहां मौजूद सारे लोग दंग रह गए सारे लोगों के मुंह से ऐसे ही निकल रहा था की शहीद की मां ऐसे ही होती है।इस माँ को सलाम ।

पिता की 3 वर्ष पहले ही करंट लगने से मौत सारी जिम्मेवारी अमरजीत पर था

बता दें कि शहीद अमरजी डीआरजी की टुकड़ी में था। इन्होंने 2 साल पहले ही नौकरी में ज्वाइन किया था। उनके पिता अमृत खलखो का 3 वर्ष पहले ही करंट लगने से मौत हो गई थी।बड़ा बेटा होने के कारण परिवार की सारी जिम्मेवारी अमरजीत पर ही था। इनके परिवार में इनकी मां,भाई और नानी है।

कुछ दिन बाद ही थी अमरजीत की शादी  

अमरजीत की मां ने बताया कि हाल में ही अमरजीत की शादी तय हुई थी उन्होंने बताया कि 2 दिन पहले ही उनका अमरजीत से बात हुआ था ।उन्होंने कहा कि उनका बेटा कुछ दिन बाद ही घर के मरम्मत के लिए आने वाला था उसे शादी की तैयारियां करनी थी। परंतु क्या पता उनका यह सपना पूरा नहीं होने वाला। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे और परिवार को इस दुख सहने की शक्ति दे। इस दुख की घड़ी में सारा देश अमरजीत की मां के साथ हैं।