बिहार मे सरकार खुद पिलाएगी नीरा, पटना में बनाए गए 51 सेंटरों मे होगी पूरी व्यवस्था

बिहार में अप्रैल 2016 में शराबबंदी कानून लाया गया, जिसके तहत राज्य में शराब पीने और उसकी खरीद बिक्री पर पाबंदी लगा दी गयी। लेकिन कानून के लागू हो जाने के बाद भी बिहार में शराब का कारोबार बंद नहीं हुआ। लोग चोरी- छिपे शराब पीने लगे। अब समस्या यह होने लगी कि शराब की गुणवत्ता में कमी और अच्छी शराब न रहने की वजह से राज्य में कई लोगों की शराब पीने से मौत की खबरें आने लगी और इन मौतों पर राजनीति भी शुरू हो गयी।

Neera in Bihar

शराब के विकल्प  में नीरा ला रही है सरकार

बिहार सरकार ने राज्य में जहरीली शराब से हो रही मौत पर काबू पाने के लिए नीरा का बढ़ावा देने का फैसला किया है। सरकार ने राज्य के सभी जिलों में नीरा के बिक्री केंद्र बनाने की घोषणा की है। सरकार की इस पहल के तहत राज्य की राजधानी पटना में भी नीरा बिक्री केंद्र बनाए जाएंगे। जानकारी के मुताबिक पटना में नीरा बिक्री के 51 सेंटर बनाये गए हैं, जहाँ अप्रैल के प्रथम सप्ताह से बिक्री शुरू की जाएगी। पटना के डीएम डॉ चंद्रशेखर सिंह ने नीरा की बिक्री और उत्पादन को लेकर समीक्षा बैठक भी की और इस संदर्भ में कई फैसले लिये।

Neera in Bihar

नीरा की गुणवत्ता रखा जाएगा ध्यान

सरकार ने जीविका के डीपीएम को निर्देश दिया है कि वे आम लोगों के बीच जाकर उन्हें नीरा के फायदे के बारे में बताएं । लोगों में जागरूकता लाने के लिए सभी नीरा सेंटर पर फ्लेक्स भी लगाने का निर्देश दिया गया है। सभी सेंटर पर औसतन 40-50 लीटर प्रतिदिन नीरा बिक्री का लक्ष्य रखा गया है। सरकार शराबबंदी को लेकर पूरी तरह से सख्त है। शराबबंदी कानून का पूरी तरह से पालन हो, इसके लिए प्रशासन द्वारा कार्रवाई तेज ककर दी गयी है। पिछले जनवरी से मार्च तक पटना प्रशासन ने 918 वाहनों की नीलामी से करीब 54 करोड़ रूपये वसूले। इस दौरान कुल 657 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया।