दुनिया

अमेरिकी अखबार में फेसबुक को लेकर छपी रिपोर्ट ने भारत में मचाई खलबली! जानिए पूरा मामला

अमेरिकी अखबार में फेसबुक को लेकर छपी रिपोर्ट ने भारत में मचाई खलबली! जानिए पूरा मामला

डेस्क: अमेरिका अखबार में छपी एक रिपोर्ट ने भारत में खलबली मचा दी है. अखबार की रिपोर्ट के अनुसार भारत में फेसबुक और सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी और उसके कार्यकर्ताओं के बीच सांठगांठ है. अमेरिकी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार भाजपा और उससे जुड़े हेट स्पीच को लेकर फेसबुक नरम रुख रखता है. अखबार के इस दावे के बाद विपक्ष ने सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया है. राहुल गांधी प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर इस रिपोर्ट के बाद सीधे निशाना साधा है. लेकिन अखबार की रिपोर्ट को फेसबुक ने सिरे से खारिज कर दिया है।

फेसबुक ने सफाई देते हुए कही ये बात फेसबुक की ओर से कहा गया है कि हम हेट स्पीच को प्रतिबंध करते हैं, फिर चाहे वह दुनिया के किसी देश या किसी भी राजनीतिक पार्टी से जुड़ा क्यों ना हो। फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा कि फेसबुक पर ऐसा कोई भी कंटेंट जो कि हिंसा को बढ़ावा देता है, लोगों के बीच नफरत फैलाता है हम उसे प्रतिबंध करते हैं, फिर चाहे वह किसी भी राजनीतिक दल या संगठन से जुड़ा क्यों ना हो। लेकिन हमें इस बात का भी एहसास है कि इस तरह के कंटेंट को और अधिक मॉनिटर और ऑडिट करने की जरूरत है. हम इसे सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं.

यह है पूरा मामला

अखबार की रिपोर्ट में बीजेपी नेता टी रजा की फेसबुक पोस्ट का जिक्र भी किया गया है. इस पोस्ट में टी रजा ने कहा था रोहिंग्या मुसलमानों को गोली मार देना चाहिए। मुसलमानों को देशद्रोही बताया था और मस्जिद गिराने की धमकी भी दी थी। टी रजा के इस पोस्ट का विरोध फेसबुक कर्मचारियों ने किया था कर्मचारियों ने कहा था कि यह सब कुछ पोस्ट करना कंपनी के नियमों के खिलाफ है। हालांकि इसके बावजूद फेसबुक के भारत में बैठने वाले वरिष्ठ कर्मचारियों ने इस पर कोई एक्शन नहीं लिया था इसके बाद से फेसबुक पर विश्वसनीयता पर सवाल उठाया जा रहा है।

राहुल गांधी ने साधा सरकार पर निशाना

अखबार की रिपोर्ट के बाद राहुल गांधी ने सरकार को करते हुए कहा था, भाजपा और आरएसएस यह दोनों संगठन भारत में फेसबुक और व्हाट्सएप को कंट्रोल करते हैं. वह इसके माध्यम से फर्जी खबरें और नफरत फैलाते हैं, साथ ही इसका इस्तेमाल देश के वोटर्स को प्रभावित करने के लिए भी किया जा रहा है. वहीं प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर लिखा, ‘भारत के ज्यादातर मीडिया चैनल के बाद अब सोशल मीडिया के बारी है।भारतीय जनता पार्टी नफरत और दुष्प्रचार फैलाने के लिए हर तरह के हथकंडे का इस्तेमाल करती थी और अभी भी कर रही है, फेसबुक जो आम जनमानस की अभिव्यक्ति का एक सरल माध्यम है उसका इस्तेमाल भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भ्रामक जानकारी और नफरत फैलाने के लिए किया है। इतना ही नहीं फेसबुक कोई कार्रवाई न कर पाए इसके लिए भाजपा अधिकारियों से सांठगांठ भी की है ताकि सोशल मीडिया पर नियंत्रण बना रहे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top