देश

मॉनसून सत्र का आयोजन कल से, तैयार है संसद भवन | nation – News in Hindi

मानसून सत्र की शुरुआत सोमवार से होने वाली है (संसद भवन की फाइल फोटो)

संसद सत्र (Parliament Session) के प्रारंभ से पहले सांसदों (MPs) और संसद कर्मचारियों समेत 4,000 से अधिक लोगों की कोविड-19 (COVID-19) के लिए जांच कराई गयी है. इस बार ज्यादातर संसदीय कामकाज डिजिटल तरीके से होगा और पूरे परिसर को संक्रमणुक्त बनाने के साथ ही दरवाजों को स्पर्शमुक्त (disinfect) बनाया जाएगा.

नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की छाया के बीच संसद (Parliament) सोमवार से 18 दिन के मॉनसून सत्र (Monsoon Session) के लिए पूरी तरह तैयार है. इस सत्र में कई चीजें पहली बार हो रही हैं जिनमें दोनों सदनों (both houses) की बैठक सुबह-शाम की पालियों में होना और सत्र में एक भी अवकाश नहीं होना शामिल हैं. संसद परिसर (Parliament Complex) में केवल उन लोगों को प्रवेश की अनुमति होगी जिनके पास कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) नहीं होने की पुष्टि करने वाली रिपोर्ट होगी और लोगों का इस दौरान मास्क (mask) पहनना अनिवार्य होगा.

सत्र के प्रारंभ से पहले सांसदों (MPs) और संसद कर्मचारियों समेत 4,000 से अधिक लोगों की कोविड-19 (COVID-19) के लिए जांच कराई गयी है. इस बार ज्यादातर संसदीय कामकाज डिजिटल तरीके से होगा और पूरे परिसर को संक्रमणुक्त बनाने के साथ ही दरवाजों को स्पर्शमुक्त (disinfect) बनाया जाएगा. इस बार सामाजिक दूरी के दिशानिर्देशों (Social Distancing Guidelines) के तहत सांसदों के लिए विशेष बैठक व्यवस्था की गयी है.

लोकसभा अध्यक्ष और राज्यसभा सभापति ने संसद को सुरक्षित बनाने के लिए कई बैठकें कीं
सत्र के पहले दिन को छोड़कर बाकी दिन राज्यसभा की कार्यवाही सुबह की पाली में नौ बजे से दोपहर एक बजे तक संचालित होगी, वहीं लोकसभा अपराह्न तीन बजे से शाम सात बजे तक बैठेगी. दोनों सदनों के चैंबरों और गैलरियों का इस्तेमाल दोनों पाली में सदस्यों के बैठने के लिए किया जाएगा. दोनों पालियों के बीच पूरे परिसर को संक्रमण मुक्त किया जाएगा.पूरे संसद परिसर को कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सुरक्षित क्षेत्र बनाने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने गृह मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, आईसीएमआर और डीआरडीओ के अधिकारियों के साथ श्रृंखलाबद्ध बैठकें कीं.

यह भी पढ़ें: सांसदों ने मानसून सत्र में चीन, कोरोना के हालातों पर चर्चा की मांग की

मॉनसून सत्र के 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक आयोजन के दौरान तय मानक परिचालन प्रक्रियाओं के अनुसार सांसदों, दोनों सदनों के सचिवालयों के कर्मियों तथा कार्यवाही कवर करने वाले मीडियाकर्मियों को कोविड-19 की जांच कराने को कहा गया है और यह जांच सत्र शुरू होने से 72 घंटे से अधिक पहले नहीं होनी चाहिए.


News Source : News 18

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top